आगरा में पान मसाला कारोबारियों पर जीएसटी विभाग की बड़ी कार्रवाई में जमा किया गया 72 लाख रुपये का टैक्स

आगरा जीएसटी छापा कार्यवाही अपडेट!

आगरा में वाणिज्य कर विभाग ने पान मसाला और गुटखा कारोबारियों की 19 फर्मों के 26 ठिकानों पर कार्रवाई की थी, जिसमें सरीन एंड सरीन से 50 लाख और अन्य से 22 लाख रुपये का टैक्स जमा कराया गया है।

कार्रवाई खत्म होने के बाद अब वाणिज्य कर और सीजीएसटी की टीम 19 फर्मों से मिले खातों, स्टॉक का ब्यौरा, कच्चे बिल, खरीद बिक्री के रिकार्ड और कंप्यूटर डेटा का आकलन कर वास्तविक टैक्स की गणना करेगी,

वाणिज्य कर विभाग के एडीशनल कमिश्नर ग्रेड वन अजय कुमार सिंह ने बताया कि 26 ठिकानों पर एक साथ की गई कार्रवाई में कई वित्तीय अनियमिताएं मिली हैं।

टैक्स भले ही 72 लाख रुपये जमा कराया हो, पर प्रदेश से बाहर के अपंजीकृत व्यापारियों के नाम पर कच्चे माल की इंवर्ड सप्लाई प्राप्त करके इससे तैयार उत्पाद की आऊटवर्ड सप्लाई की गई। अपंजीकृत व्यापारियों को ही माल की बिक्री करते हुए टैक्स चोरी की गई है ।

उत्तर प्रदेश में कर चोरी को तेजी से कार्रवाई की जा रही है। इसी के तहत आगरा में माल और सेवा कर (जीएसटी) की बड़ी कार्रवाई चल रही है। 22 टीमें एक साथ 22 ठिकानों पर छापेमारी कर रही हैं। इसमें गोल्ड मोहर, राजश्री, विमल, सरीन एंड सरीन समेत बड़े गुटका कारोबारियों के यहां छापे मारे जा रहे हैं। अछनेरा,रायभा, फ्रीगंज स्थित गोदामों पर छापे टीम दस्तावेज खंगाल रही है। बताया जा रहा है कि मुख्यालय के आदेश पर कार्रवाई की जा रही है।

ताजनगरी आगरा में स्थित सरीन एंड सरीन ग्रुप पर भी जीएसटी टीम ने छापामार कार्रवाई शुरू की है. जिले में स्थित करीब आधा दर्जन फैक्ट्री और गोदाम पर एक साथ कार्रवाई की गई है.

सरीन एंड सरीन ग्रुप गोल्डमोहर गुटखा बनाने का काम करता है. गोल्ड मोहर आगरा और आसपास के तमाम जिलों में भारी मात्र में बिक्री किया जाता है, सभी स्थानों पर जीएसटी की टीम दोपहर करीब 1 बजे पहुंची और कार्रवाई शुरू की. एक साथ छापेमारी से फैक्ट्री में मौजूद सभी लोगों में हड़कंप मच गया.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *